Trending NowWorld News

पाकिस्तान की टिप्पणी पर विदेश मंत्रालय ने जताई कड़ी आपत्ति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाल के जम्मू-कश्मीर दौरे के खिलाफ पाकिस्तान की टिप्पणी पर विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कड़ी आपत्ति जताई। बिना कुछ बोले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि पाकिस्तान के पास पीएम मोदी की जम्मू-कश्मीर यात्रा पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है कि वो इस विषय मे ऐसा कहे।

पाकिस्तान ने पीएम मोदी की जम्मू-कश्मीर यात्रा और चिनाब नदी पर रैटल और क्वार जलविद्युत परियोजनाओं के निर्माण के लिए आधारशिला रखने पर आपत्ति जताई थी पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने 24 अप्रैल को एक बयान में कहा था कि 5 अगस्त, 2019 के बाद से, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने कश्मीर में वास्तविक अंतर्निहित मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए भारत द्वारा इस तरह के कई हताश प्रयासों को देखा है।

पीएम मोदी के रैटल और क्वार जलविद्युत परियोजनाओं की आधारशिला रखने से पाकिस्तान बौखला गया है, किश्तवाड़ जिले में चिनाब नदी पर लगभग 5300 करोड़ रुपये की लागत से 850 मेगावाट की रैटल जलविद्युत परियोजना का निर्माण किया जाएगा। 4500 करोड़ रुपये से अधिक की लागत वाली 540 मेगावाट की क्वार जलविद्युत परियोजना भी किश्तवाड़ जिले में चिनाब नदी पर बनाई जाएगी। दोनों परियोजनाओं से क्षेत्र की बिजली जरूरतों को पूरा करने में मदद मिलेगी।

पीएम मोदी 23 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस समारोह में भाग लेने के लिए जम्मू-कश्मीर गए थे, इस दौरे पर उन्होंने 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास पहलों का उद्घाटन और शिलान्यास किया, उन्होंने बनिहाल काजीगुंड रोड टनल का भी उद्घाटन किया।

रैटल और क्वार जलविद्युत परियोजनाओं की आधारशिला रखते ही पाकिस्तान की बौखलाहट सामने आई थी। पाक ने कहा था कि भारत द्वारा डिजाइन किए गए रैटल हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट का निर्माण विवादित है। क्वार हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट के लिए भी भारत ने अब तक ऐसा नहीं किया है। पाकिस्तान के साथ सूचना साझा करने के अपने संधि दायित्व को पूरा नहीं किया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि प्रधानमंत्री की इस वर्ष 2022 में पहली विदेश यात्रा जर्मनी से शुरू हो रही है। पीएम मोदो फ्रांस और डेनमार्क भी जाएंगे। वहीं, वंदे भारत को लेकर उन्होंने कहा कि यूक्रेन में इसके कुछ पार्ट बनते हैं। हम देख रहे हैं, कैसे जल्द से जल्द भारत इन पार्ट्स को भारत लाया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button