Trending Now

पूर्व सैनिकों की पेंशन मामले को संभालने के लिए आगे आया रक्षा मंत्रालय

पूर्व सैनिकों की पेंशन नहीं आने का मसला मंगलवार रात को रिटायर सैन्य अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल बीएस हुड्डा ने इंटरनेट मीडिया पर उठाया और बुधवार को इसके बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी सरकार पर निशाना साधा। मामले की संवेदनशीलता को भांपते हुए रक्षा मंत्रालय ने बुधवार शाम एक स्पष्टीकरण जारी कर दिन खत्म होने तक उन सभी पूर्व रक्षाकर्मियों के खाते में अप्रैल के पेंशन का भुगतान सुनिश्चित करने की घोषणा की जिन्हें पेंशन का इंतजार है।

हजारों पूर्व सैन्य कर्मियों को पेंशन का भुगतान नहीं हो पाने को लेकर उठे विवाद पर सफाई देते हुए सरकार ने कहा है कि इन पूर्व सैन्यकर्मियों के बैंकों ने 30 अप्रैल तक की समयसीमा में इनकी पहचान की पुष्टि नहीं की थी। इसी वजह से 58,275 रिटायर सैन्यकर्मियों की अप्रैल महीने की पेंशन का भुगतान नहीं हो पाया। इस मामले में पूर्व सैन्यकर्मियों द्वारा जताई गई चिंताओं के मद्देनजर सरकार ने पहचान प्रमाणित किए जाने की प्रक्रिया में विशेष छूट देते हुए बुधवार को दिन खत्म होने तक इन सब के खाते में अप्रैल महीने की पेंशन का भुगतान करने का एलान किया है।

रक्षा मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि अप्रैल माह के रक्षा पेंशनभोगियों को पेंशन का भुगतान न करने के संबंध में मीडिया और इंटरनेट मीडिया के वर्गो में ¨चता व्यक्त की गई है। इस संबंध में प्रक्रिया के अनुसार मासिक पेंशन की आय जारी रखने के लिए सभी पेंशनभोगियों को वार्षिक पहचान पूरी करनी होती है जो आमतौर पर नवंबर 2021 के महीने में पेंशन वितरण एजेंसियों के रूप में कार्य करने वाले सभी बैंकों द्वारा की जाती है।

कोरोना की स्थिति के कारण सरकार ने 30 नवंबर, 2021 तक वार्षिक पहचान पूरी करने की तय तारीख 31 मार्च, 2022 तक बढ़ा दी। अप्रैल 2022 महीने की पेंशन की प्रक्रिया के दौरान पता चला कि लगभग 3.3 लाख पेंशनभोगियों की वार्षिक पहचान अद्यतन नहीं की गई।

इसके बाद सभी पेंशन वितरण बैंकों को इस बारे में एक सूची भेजी गई और उनसे पेंशनभोगियों का अद्यतन पहचान डाटा साझा करने के लिए कहा गया। परिणामस्वरूप 25 अप्रैल, 2022 तक 2.65 लाख से अधिक पेंशनभोगियों की पहचान की स्थिति स्पर्श पर अपडेट किया गया, जिससे इन सभी पेंशनभोगियों के लिए पेंशन का सफलतापूर्वक भुगतान किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button