Trending Now

मदरसों के छात्र दुनिया भर में करें इल्म की शमा रौशन अहसान मिया

रिपोर्ट सद्दाम खान

बरेली। आला हज़रत फ़ाज़िले बरेलवी के बड़े साहिबजादे हुज्जातुल इस्लाम मुफ़्ती हामिद रज़ा खान साहब (हामिद मियां) का 82 वांं दो रोज़ा उर्स-ए-हामिदी का आज दरगाह आगाज़ दरगाह प्रमुख हज़रत मौलाना सुब्हान रज़ा खान साहब (सुब्हानी मियां) की सरपरस्ती व सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन रज़ा क़ादरी (अहसन मियां) की सदारत में तिलावत-ए-कुरान से हुआ।

सुबह 8 बजे खत्म बुखारी शरीफ की महफ़िल हुई। सभी फारिग़ तलवा को बुखारी शरीफ की आखिरी हदीस का दर्स सज्जादानशीन मुफ़्ती अहसन मियां ने देते हुए कहा कि सभी लोग जिन्होने मंज़र-ए-इस्लाम से जो तालीम हासिल की है उसकी शमा दुनिया भर में रौशन कर मज़हब व मसलक के लिए काम करे। कितनी ही दुश्वारियां पेश आये मगर हक़ का दामन न छोड़े हमेशा हक़ बयान करे।
मदरसे के सदर मुफ़्ती आकिल रज़वी ने बुखारी शरीफ और मुफ़्ती सलीम नूरी बरेलवी ने मदरसा मंज़र-ए-इस्लाम की अहमियत बयान की। मौलाना डॉक्टर एजाज़ अंजुम ने मुफ़स्सिर-ए-आज़म हज़रत जिलानी मियां की ज़िंदगी पर रोशनी डाली। सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर जिलानी मियां के कुल शरीफ की रस्म अदा की गई। ख़ुसूसी दुआ मुफ़्ती अहसन मियां ने की। रात 9 बजे ऑल इंडिया तहरीरी, तक़रीरी व मुशायरे का मुकाबला शुरू हुआ जो देर रात तक जारी था।
उर्स में शिरकत करने महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड, वेस्ट बंगाल, उड़ीसा, कर्नाटक, आसाम, छतीसगढ़़, उत्तराखंड समेत प्रदेश भर से अकीदतमंद दरगाह पहुँचे रहे है।
मीडिया प्रभारी नासिर कुरैशी ने बताया कि बाद नमाज़-ए-ईशा रात 9 बजे तहरीरी, तक़रीरी व मुशायरा का इनामी मुकाबला मदरसे के सदर मुफ़्ती आकिल रज़वी, वरिष्ठ मुफ़्ती सलीम नूरी बरेलवी, मुफ़्ती अफ़रोज़ आलम, मुफ़्ती अय्यूब, मुफ़्ती मोइनुद्दीन व मौलाना अख्तर हुसैन की निगरानी में शुरू हुआ जो देर रात तक जारी था। निज़ामत (संचालन) मौलाना शोएब इलाहाबादी ने किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button