Lifestyle

तेल का कुल्ला |

पानी के कुल्ले से भी ज्यादा फायदेमंद है, तेल का कुल्ला | इसे नियमित करने से होते हैं मसूड़े स्वस्थ व मज़बूत,बेक्टेरीया व कीटाणु का होता हैं सफाया, मुँह की दुर्गंध, दाँतों का दर्द , कैविटी एवं मसूड़ों की सूजन से मिलता हैं छुटकारा ।
दाँतों में आती हैं सफेदी, लार का उत्पादन भी बढ़ता है, मसूड़े मॉइस्चराइज़ रहते हैं ।
यह एक प्राचीन आयुर्वेदिक विधि है , जो कि मुँह की सेहत बनाता है व मुँह साफ रखता है ।

विधि :-
इसे सुबह खाली पेट करना चाहिए। एक बड़े चम्मच तिल का तेल लें और एक मिनट तक इसे मुँह में चारों तरफ घुमाएँ । इसके बाद तेल को थूक दें और फिर गुनगुने पाने से गुल्ला करें । आप नारीयल या जैतुन का तेल भी ले सकते हैं।

यह एक आसान विधि हैं , जिससे आपकी ओरल हाईजीन होती है लेकिन इसके साथ- साथ आपको रोजाना दो बार ब्रश करना और फ्लौस करना भी जरूरी है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button